बायोम क्या है (Biomes kya hai) in hindi 


बायोम  एक अंग्रेजी का शब्द(Biomes)  है । जिसका हिंदी अर्थ है जैवक्षेत्र । मतलब जिस क्षेत्र में जीव रहते है उसे जैवक्षेत्र कहते है । 

*आप को पता है कि जहाँ जीव -जंतु निवास करते है वहाँ पेड़ पौधें भी होते है । तो बायोम का पूर्ण परिभाषा क्या है ?

बायोम वास्तव में है क्या ? इसमे यह एक क्षेत्र है जिसमे जन्तु तथा उसके साथ साथ पेड़ पौधें शान्ति पूर्ण ढंग से रहते है उस क्षेत्र उनको कोई क्षति नही पहुँचता है । यहाँ एक प्रकार से मानव का निवास कम हो जाता है ।

जैसे- सदाबहार वन आदि खूंखार जंगल जिसमे शेर ,बाघ, साँप आदि ख़तरनाक जीव रहते हैं और यहाँ कोई नही जाता जिससे जंगल सुरक्षित रहता है और पेड़ो को कोई नही काटता है ।तो निष्कर्ष निकलता है कि जानवर बिना पेड़ों के नही रह सकते और पेड़ जानवरों से सुरक्षित रहते हैं। इससे दोनों एक दूसरे पर निर्भर है । इसी को पारिस्थितिकी(Ecosystem) कहते है । और ऐसे ही क्षेत्रों को बायोम बायोम कहते हैं। जिसमे पेड़ों और जीव जंतुओं के बीच गहरा सम्बंध को दर्शाता है।


बायोम का परिभाषा ( Biomes ka paribhasha) 

"पृथ्वी का वह क्षेत्र जहाँ जीव-जन्तु तथा पेड़-पौधों में समानताएं पायी जाती है ।" 
वह क्षेत्र स्थल  भाग तथा समुद्र आते है । जो एक पारिस्थितिकी तन्त्र (Ecosystem)  में होते है ।  अर्थात पेड़ पौधे तथा जीव-जन्तु एक दूसरे के बिना नही रह सकते इसी सम्बन्ध को इकोसिस्टम का नाम दिया गया है ।

जैसे - उदाहरण के तौर पर -
1. मछली, मेढ़क  आदि जीव  जल में रहते तो इसे जलीय प्राणी कहते है इनका निवास जलक्षेत्र है। 
2. स्थल पर रहने वाले सभी जन्तु - शेर , बाघ, हिरन ,जिराफ ,कुत्ता 
आदि सभी स्थल क्षेत्र में निवास करते है 

बायोम के प्रकार(Bayom के prakar)-

बायोम को दो भागों में बांटा गया है ।

1. स्थलीय बायोम

(i) वन बायोम
(ii) घास बायोम 
(iii) टुंड्रा तथा टैगा बायोम 
(iv) मरुस्थलीय बायोम 


2. जलीय बायोम
 (i) खुला बायोम 

(ii) आर्द्र भूमि बायोम ( समुद्र के अंदर  की भूमि पर रहने वाला जीव समूह) 
(iii) प्रवाल भित्ति बायोम 


1. (i) वन बायोम -

पृथ्वी को दो भागों में बांटा गया है उत्तरी ध्रुव तथा दक्षिणी ध्रुव । भूमध्य रेखा के उत्तर में 5डिग्री तथा दक्षिण में 5 डिग्री के क्षेत्र को सदाबहार वन कहते है । क्योंकि इन क्षेत्रों में सूर्य की सीधी किरणे पड़ती है । जिससे यहाँ अच्छा खासा जल वाष्प के रूप लेता है और बादल का निर्माण होता है । वर्षा के लिए पेड़ो की जरूरत होती है जो यहाँ खूब है । जो गर्म वायु को ऊपर उठाती है और बादलो के टकराव एवम गर्म वायु से  पिघलाव के कारण वर्षा होती है ।
यहाँ यह कार्य  प्रतिदिन होता है इसलिए सुबह ठंड तथा शाम को उमस भरा दिन होता है जो मानव के लिए बहुत हानिकारक होता है । इसलिए यहा पेड़ पौधे तथा जीव जंतु ही निवास करते है । इसे ही वन बायोम कहते हैं । इन दोनों के बीच दूसरा कोई नही है । इन क्षेत्रों में केवल जानवर तथा पेड़ पौधे होते है जिससे यहाँ शन्ति बनी रहती है क्योंकि मानव निवास नही करती है । यहाँ पेड़ पौधे इतने बड़े होते है कि सूर्य का प्रकाश भी पृथ्वी पर नही पहुँच पता है ।


(ii) घास बायोम(ghas baton)-

 पृथ्वी पर अलग-अलग  जीवों का निवास क्षेत्र  अलग -अलग है । इसप्रकार अगले बायोम का बात करते है । जो  उष्ण कटिबंधीय तथा शीतोष्ण कटिबंधीय क्षेत्र है । 

उष्ण कटिबंधीय -

यह क्षेत्र 5 - 23.5 डिग्री उत्तरी तथा दक्षिणी क्षेत्र में फैला है । इन क्षेत्रों में मानव का निवास होने के कारण यहाँ पेड़ो की अधिकतम कटाई होती है । क्योंकि यह क्षेत्र मानव के रहने के लिये अनुकूल है। यहाँ छोटे-छोटे पेड़ पतझड़ वाले  पेड़ होते है । जो नीम, आम , सागौन, महुआ , बरगद आदि के पेड़ दिखते है । और इसमे कुछ जन्तु गाय ,बकरी, भेड़ ,भैस आदि  अपना सामंजस्य  बैठाते है । तो यह उष्ण कटिबंधीय बायोम हो गया।

और इसमे घास के मैदान होते है जो काफी घने होते है। जैसे -लाओस (दक्षिण अमेरिका में ) ,तथा कैम्पोस आदि । 

शीतोष्ण कटिबन्धीय बायोम-

यह क्षेत्र 23.5-66.5 डिग्री के उत्तरी तथा दक्षिणी ध्रुव में फैला है जिसे शीतोष्ण कटिबंधीय क्षेत्र कहते है इसमें घास का मैदान आता है ।क्योंकि एक अच्छे पेड़ होने के लिए अच्छी जल, अच्छा ताप की जरूरत होती है । जो उसे केवल भूमध्य रेखा पर ही मिलता है ।और जगह इन दोनों के से कुछ न कुछ कमी हो जाती है । इन क्षेत्रों में ठंड अधिक होती है।

कुछ घास का मैदान है जो शीतोष्ण कटिबंधीय क्षेत्र से सम्बंधित है ।
1.प्रेयरी घास का मैदान ( अमेरिका ) 
2. पम्पास (अर्जेंटीना)
3. स्टेपी (यूरोप) 
4. सवाना घास का मैदान(मिश्र एवम सूडान)
5. वेल्ड (दक्षिण अफ्रीका)
6. डाउन ( ऑस्ट्रेलिया) 
यहाँ जो जीव रहते है उन्हें बायोम कहते है । और इन क्षेत्रों में जलवायु ठंडी होती है ।इसलिए बारिस कम होता है लेकिन बराबर होता रहता है। इसप्रकार घास विरल होते हैं।